.

सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र | Fabulous Moral Stories From Hindu Mythology

moral stories in hindi,hindi moral stories,hindi kahaniyan,moral hindi kahaniyan,hindi kathayen


श्री रामचन्द्र जी के पूर्वज सत्यवादी हरिश्चन्द्र का नाम आज भी सम्मान से लिया जाता है ।  वे अपनी सत्यवादिता और दानशीलता के कारण प्रसिद्व थे ।

देवताओं के कहने पर एक बार ऋषि विश्वामित्र उनकी परीक्षा लेने आये ।  ऋषि ने स्वप्न में उनसे राज्य माँगा ।  प्रातःकाल उठकर स्वप्न में देखे गये व्यक्ति को राजा ने अपना राज्य दे दिया ।

विश्वामित्र ने दक्षिणा माँगी तो राजा ने कहा, मैं एक महीने में आपको दक्षिणा दे दूंगा ।  उनकी पत्नी शैव्या ने कहा, आर्यपुत्र आप मुझे बेचकर दक्षिणा दे दे ।  रानी को बेचकर आधी दक्षिणा का प्रबन्ध हुआ ।  इसके बाद राजा ने श्मशान में जाकर चाण्डाल के हाथों अपने आपको बेचकर पूरी दक्षिणा चुका दी ।

एक दिन उनके पुत्र रोहितशव को साँप ने काट लिया ।  जिससे वह मर गया ।  शैव्या अपने मरे हुए पुत्र का दाह संस्कार कराने के लिये अकेली श्मशान गयी ।  चाण्डाल के सेवक के रुप में वहाँ हरिश्चन्द्र खड़े थे ।  उन्होंने शैव्या से दाह संस्कार के लिये आधा कफन लेना चाहा तो विश्वामित्र अन्य देवताओं सहित वहाँ आ गये । वे राजा से कहने लगे हे राजन तुम्हारी परीक्षा पूरी हो गयी ।  तुम दोनों धन्य हो अपना राज्य सँभालो ।

सब देवताओं ने उन्हें आर्शीवाद दिया जब तक पृथ्वी पर सूर्य और चन्द्रमा रहेंगे आपका यश तब तक संसार में जगमगाता रहेगा ।

जल छिड़ककर विश्वामित्र ने रोहिताश्व को जीवित कर दिया । चारो ओर महाराज हरिश्चन्द्र और महारानी शैव्या की जयजयकार होने लगी । 

P.S. अगर आप भी अपनी रचनाएँ(In Hindi), प्रेरक कहानियाँ (Inspirational Hindi Stories), प्रेरक लेख(Self -Development  articles in Hindi ) या कवितायेँ लाखों लोगों तक पहुँचाना चाहते हैं तो हमसे nisheeth@hindisahityadarpan[dot]in  पर संपर्क करें !! 

Categories:

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! अपनी प्रतिक्रियाएँ हमें बेझिझक दें !!

Nisheeth Ranjan

{facebook#https://www.facebook.com/nisheeth.ranjan} {twitter#https://twitter.com/nisheeth84} {google-plus#https://plus.google.com/u/0/+NisheethRanjan} {pinterest#https://www.pinterest.com/nisheeth84/} {youtube#https://www.youtube.com/user/TheHSMIndia} {instagram#https://www.instagram.com/hindiquotes/}

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget