Ads 468x60px

Apr 16, 2014

कमी निकालना और बुराई करना बेहद आसान होता है, और उन कमियों को सुधारना उतना ही कठिन |

एक नगर में एक मशहूर चित्रकार रहता था । चित्रकार ने एक बहुत सुन्दर तस्वीर बनाई और उसे नगर के चौराहे मे लगा दिया और...  नीचे लिख दिया कि जिस किसी को , जहाँ भी इस जब उसने शाम को तस्वीर देखी उसकी पूरी तस्वीर पर निशानों से ख़राब हो चुकी थी ।

यह देख वह बहुत दुखी हुआ । उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि अब क्या करे वह दुःखी बैठा हुआ था । तभी उसका एक मित्र वहाँ से गुजरा उसने उस के दुःखी होने का कारण पूछा तो उसने उसे पूरी घटना बताई । उसने कहा एक काम करो कल दूसरी तस्वीर बनाना और उस मे लिखना कि जिस किसी को इस तस्वीर मे जहाँ कहीं भी कोई कमी नजर आये उसे सही कर दे ।

उसने अगले दिन यही किया । शाम को जब उसने अपनी तस्वीर देखी तो उसने देखा की तस्वीर पर किसी ने कुछ नहीं किया ।

वह संसार की रीति समझ गया । "कमी निकालना , निंदा करना , बुराई करना बेहद आसान होता है , लेकिन उन कमियों को दूर करना अत्यंत कठिन होता है "।

पहले प्रकाशित किये गए अद्भुत प्रेरक प्रसंग:
  1. स्वयं आपत्ति और दुःख का स्वाद चखे बिना पराये दुःख और विपत्ति का एहसास नहीं होता है !
  2. सरदार वल्लभ भाई पटेल से जुड़ा प्रेरक प्रसंग | Incredible Stories From Great Lives
  3. बुद्ध संघ की अर्थनीति - अद्भुत प्रेरक प्रसंग
  4. पंडित मदन मोहन मालवीय के जीवन से जुड़ा प्रेरक प्रसंग !
  5. बचपन में मिले संस्कार ही व्यक्ति को आगे चलकर महामानव बनाते हैं।

Apr 9, 2014

सरदार वल्लभ भाई पटेल से जुड़ा प्रेरक प्रसंग | Incredible Stories From Great Lives

Apr 7, 2014

मुर्ख को सही बात समझाना असम्भव है-भर्तृहरि नीति शतक-श्लोक ४ | Bhartrihari Neeti Shatak - shlok-4

bhartruhari neeti shatakam hindi,hindi translation of bhartrihari neeti shatak,neet shatak,vairagya shatak

प्रहस्य मणिमुद्धरेन्मकरवक्रदंष्ट्रान्तरात्
    समुद्रमपि सन्तरेत्प्रचलदूर्मिमालाकुलम् ।
भुजङ्गमपि कोपितं शिरसि पुष्पवद्धारये
    न्न तु प्रतिनिविष्टमूर्खजनचित्तमाराधयेत् ॥ 

Hindi Translation Of Bhartrihari Neeti Shatak 4th Shloka


अगर हम चाहें तो मगरमच्छ के दांतों में फसे मोती को भी निकाल सकते हैं, साहस के बल पर हम बड़ी-बड़ी लहरों वाले समुद्र को भी पार कर सकते हैं, यहाँ तक कि हम  गुस्सैल सर्प को भी फूलों की माला तरह अपने गले में पहन सकते हैं; लेकिन एक मुर्ख को सही बात समझाना असम्भव है।  


English Translation Of Bhartrihari Neeti Shatak 4th Shloka



With courage, we could extract the pearl stuck in between crooked teeth of a crocodile. We could sail across an ocean that is tormented by huge waves. We may even be able to wear an angry snake on our head as if it were a flower. However it is impossible to satisfy an obstinate fool.


नीति शतक के पहले प्रकाशित किये गए श्लोक:
  1. भर्तृहरि नीतिशतकम् - मूर्खपद्धति | Bhartrihari Neeti Shatakam - Murkhpaddhati-Shlok 1,2,3  

Apr 2, 2014

बुद्ध संघ की अर्थनीति - अद्भुत प्रेरक प्रसंग