जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद-शिवमंगल सिंह 'सुमन'। Fabulous Hindi Poem

jis path par sneh mila poem in hindi,hindi poem jis jis se path par ,shivmangal singh poem in hindi,hindi poem by shiv mangal singh

inspirational hindi poem by shiv mangal singh suman,hindi poems by suman,shiv mangal singh poems in hindi
Shivmangal Singh "Suman"

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।


जीवन अस्थिर अनजाने ही, हो जाता पथ पर मेल कहीं,



सीमित पग डग, लम्बी मंज़िल, तय कर लेना कुछ खेल नहीं।


दाएँ-बाएँ सुख-दुख चलते, सम्मुख चलता पथ का प्रसाद --

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।


साँसों पर अवलम्बित काया, जब चलते-चलते चूर हुई,

दो स्नेह-शब्द मिल गये, मिली नव स्फूर्ति, थकावट दूर हुई।

पथ के पहचाने छूट गये, पर साथ-साथ चल रही याद --

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।


जो साथ न मेरा दे पाये, उनसे कब सूनी हुई डगर?

मैं भी न चलूँ यदि तो क्या, राही मर लेकिन राह अमर।

इस पथ पर वे ही चलते हैं, जो चलने का पा गये स्वाद --

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।


कैसे चल पाता यदि न मिला होता मुझको आकुल अंतर?

कैसे चल पाता यदि मिलते, चिर-तृप्ति अमरता-पूर्ण प्रहर!

आभारी हूँ मैं उन सबका, दे गये व्यथा का जो प्रसाद --

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद। 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! अपनी प्रतिक्रियाएँ हमें बेझिझक दें !!

[blogger]

Nisheeth Ranjan

{facebook#https://www.facebook.com/nisheeth.ranjan} {twitter#https://twitter.com/nisheeth84} {google-plus#https://plus.google.com/u/0/+NisheethRanjan} {pinterest#https://www.pinterest.com/nisheeth84/} {youtube#https://www.youtube.com/user/TheHSMIndia} {instagram#https://www.instagram.com/hindiquotes/}

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

इसके द्वारा संचालित Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget