अप्रिय और कटु वचनों से दिए गए घाव कभी नहीं भरते || Incredible Sanskrit Shloka About Harsh & Inappropriate words


sanskrit shloka,shbhashit,subhashitani

संरोहति अग्निना दग्धं वनं परशुना हतं ।
वाचा दुरुक्तं बीभत्सं न संरोहति वाक् क्षतम् ॥

Hindi Translation

भयानक आग से नष्ट हुए वन या फिर कुल्हाडियों से काटे गए वन में भी धीरे-धीरे पेड़-पौधे उगने लगते हैं, लेकिन अप्रिय और कटु वचनों से दिए गए घाव कभी नहीं भर पाते हैं ।  


English Translation

A forest burnt down by fire, or cut down by axe will eventually grow back. But wounds caused by harsh, inappropriate words will never heal.

 Tags: Subhashitani|Subhashit|Sanskrit Shlokas| Hindi Subhashit|

P.S. अगर आप भी अपनी रचनाएँ(In Hindi), कहानियाँ (Hindi Stories), प्रेरक लेख(Self -Development  articles in Hindi ) या कवितायेँ लाखों लोगों तक पहुँचाना चाहते हैं तो हमसे nisheeth@hindisahityadarpan[dot ]in  पर संपर्क करें !! 

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! अपनी प्रतिक्रियाएँ हमें बेझिझक दें !!

Nisheeth Ranjan

{facebook#https://www.facebook.com/nisheeth.ranjan} {twitter#https://twitter.com/nisheeth84} {google-plus#https://plus.google.com/u/0/+NisheethRanjan} {pinterest#https://www.pinterest.com/nisheeth84/} {youtube#https://www.youtube.com/user/TheHSMIndia} {instagram#https://www.instagram.com/hindiquotes/}

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget